. . . best 10+ short moral stories in hindi for class 1| नैतिक कहानिया

best 10+ short moral stories in hindi for class 1| नैतिक कहानिया

 

  Best 10+  short moral stories in hindi for class 1 


                Today I am sharing this blog of short moral stories in Hindi for class 1 with all of you, which is quite valuable for every child. These moral stories will help a lot in understanding the society of children, so that they can become a good person. If you like this story, then do share it with other people.                                                                                                                                                                                                                                                                                                                          आज मै आप सभी से नैतिक कहानियों का  यह  ब्लॉग साझा कर रहा हु जो काफी मुल्यवान है, |यह नैतिक कहानिए बच्चों के समाज को समझने मे काफी मदद करेगा ,जिससे वह एक अच्छा इंसान बन सके |अगर आपको यह कहानिया अच्छी लगे तो अन्य लोगों से जरूर साझा करे| 
                                   1.मा की प्यारी सीख     short stories in hindi               

                                                                                                                                                                                                                                                                   चेतन अपनी माँ के साथ एक बहुत अच्छे घर मे रथ था |वह बहुत अच्छा लड़का था और साथ अपनी माँ का कहना मानता था |चेतन की माँ बहुत अच्छे पकवान बनाती थी |चेतन को पकवान खाना बहुत पसंद था |एक दिन चेतन की माँ ने बहुत बढ़िया कुकीज़ बनाकर ,एक बड़े जार मे रख दी और फिर बाजार चली गई |बाजार जाने से पहले चेतन की माँ उससे कह गई थी की अपना घर काम करने के बाद वह कुकीज़ कहा सकता है |चेतन बहुत खुश हुआ |उसने जल्दी से अपना घर काम करके ,अपनी माँ के लौटने से पहले ही कुकीज़ खानी चाही |इसलिए वह एक स्टूल पर चढ़ गया |फिर उसने जार के अंदर हाथ डालकर ढेर सारी कुकीज़ निकालने की कोशिश की ,पर जार का मुह छोटा होने के कारण वह अपना हाथ बाहर नहीं निकाल सका |उसी समय उसकी माँ बाजार से लौट आई |जब उसे चेतन को देखा तो वह हसने लगी और चेतन से कहा "हाथ से ढेर सारी कुकीज़ छोड़कर  केवलकेवल दो या तीन कुकीज़ हाथ मे पकड़कर हाथ बाहर निकलो "|माँ की बात मानकर  जब उसने दो कुकीज़ हाथ मे पकड़ी ,तब वह अपनी हाथ को आसानी से बाहर निकाल सका |तब उसकी माँ ने प्यार से कहा "ऐसा करने से तुमने क्या सीखा ?"चेतन ने कहा "माने सीखा किसी भी चीज का लालच अच्छी बात नहीं है |हमे हर चीज उतनी लेनी चाहिये जितनी हमे जरूरत हो "|                                                                                                                                                                                                                                                                           2.तीन मछलीया    story in hindi for class 1  


                                                                                                                                                                                                                                                                   एक तालाब मे तीन मच्छलिया  रहती थी , एक मच्छली बहुत बुद्धिमान थी और  सदा  सावधान रहती थी | दूसरी मच्छली चतुर और उपाय कुशल थी , थे तीसरी मच्छली हमेशा भाग्य पर भरोसा करती थी |एक दिन जब बुद्धिमान मच्छली पानी मे इधर- उधर उछल रही थी , तब उसने दो  मछुवारे को देखा, एक मकछुवारा ने कहा इस तलब मे बहुत अच्छी मच्छलिया है | हम कल आकार इन्हे पकड़ेगे और खूब पैसा कमायेगे |इस बात को सुनकर बुद्धिमान मच्छली ,अन्य दो मच्छलियों को यह बात सुनाई ,और वहा से चले जाने की सलाह दी | चतुर मच्छलि वहा से जाने के लिए तैयार नहीं थी ,उसने कहा आने दो मछुवारो को मै उनसे बच जाऊँगी |तीसरी मच्छली ने कहा मै यही पैदा हुई ,मै यह से नहीं जा सकती |और बोली जो मेरे भाग्य मे लिखा है वही होगा | पहली मच्छली उस जगह को छोड़कर चली गई | दूसरे दिन जब मछुवारे आए और अपना जाल बिछाया ,जो मच्छलिया तलब मे थी वे जाल मे फस गई | चतुर मच्छलि ने मार जाने का नाटक किया ,मछुवारों ने उसे मार हुआ मछली समझ कर पानी मे फेक दिया | तश्री मच्छली नाव पर उछल रही थी , तो मकछुवारे ने उसे मार दिया | सीख -" कभी भी भाग्य पर भरोसा नहीं करना चाहिए "|                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                         3.  हिरण के बच्चे का दौड़ना stories in hindi             


                                                                                                                                                                                                                                                                     एक जंगल मे हिरण का बच्चा खरगोश और हाथी के बच्चे के साथ दौड़ लगा रहा था |तीनों ने दौड़ना शुरू किया , हिरण ने सबसे पहले हाथी के बच्चे को पीछे किया और फिर खरगोश को भी पीछे कर दिया | हिरण का बच्चा आगे दौड़ता गया और कूदकर नाला पार किया | थोड़ी दूर बाद उसने खंडर को पार किया , खंडर को पार करते ही वह एक पत्थर से जाकर टकराकर गिर पड़ा | उसने देखा की उसके पैर से खून बह रहा था , वह रोने लगा ,तुरंत बंदर ने आकर उसका पैर सहलाया , पर हिरण का बच्चा चुप नहीं हुआ |फिर भालू दादा ने गोद मे उठाया , फिर भी वह चुप नहीं हुआ | थोड़ी देर बाद उसकी माँ आई और बोली "लो पत्थर को मार दिया "| हिरण का बच्चा बोला ,"इसे मत मारो वरना यह भी रोने लगेगा "| यह बात सुनकर उसकी माँ हसने लगी , और वह भी हसने लगी | सीख - अपने अंदेर बदले की भावना को नहीं रखना चाहिए \                                                                                                                                                                                                                                                                                                                4.  मेंढक तथा साड़ moral story in hindi    


                                                                                                                                                                                                                                                                      यह किसी तालाब के किनारे की घटना है। एक  मेंढ़क का बच्चा पहली बार पानी से बाहर आया। तालाब के कुछ दूर पर भीमकाय सांड़ घास चर रहा था।
मेंढ़क के बच्चे ने तो कभी भी इतना भयानक एवं भीमकाय जानवर नहीं देखा था। बेचारा समझ नहीं पर रहा था कि यह है क्या?
वह उल्टे पैरों भय से कांपता हुआ घर आया। घर पहुंच कर अपनी मां से लिपट गया और हांफता-हांफता हुआ कहने लगा- ”मां, मैने अभी अभी तालाब से बाहर एक बहुत बड़ा जानवर देखा है।“           माँ ने बच्चे को गोद मे झुलाते हुए पूछा  - "कैसा था  देखने मे वह जानवर ?                                         मेंढक का बच्चा बोला - "उसका वजन बताना तो मेरे लिए कठिन है, मगर समझ लो कि उसके चार पैर लम्बे-लम्बे थे। एक पूंछ थी, दो बड़ी-बड़ी आंखें। सिर से दो नुकीली भाले जैसी दो चीजें निकली पड़ी थी।
मेंढ़क की मां ने भी कभी तालाब से बाहर कदम नहीं रखा था, इसलिए वह भी ठीक से समझ नहीं पा रही थी कि आखिर वह कौन से जानवर हो सकता है? उसे यह सुनकर कुछ अपमान भी महसूस हुआ कि उसका बेटा उसके आकार को उससे भी बड़ा बता रहा है, जबकि वह अपने से बड़ा किसी को समझती ही नही  थी। इसलिए उसने जोर से सांस खींचीऔर...अपना शरीर फुलाते  हूई बोली - "क्या इतना बड़ा था ,जितनी मै हु ? मेंढ़क का बच्चा कांपते हुए चिल्लाया- अरे नहीं मां, वह तो तुमसे बहुत अधिक बड़ा था। इस बार मेंढ़क की मां ने अपने फेफड़ों में ढेर सारी हवा भरी...
और आशा भरे स्वर में बोली- ”अब देखो! क्या अब भी वह मुझसे बड़ा लगता था?“
मेंढ़क का बच्चा बोला- "नहीं मां, तुम तो उसके आगे कुछ भी नहीं हो।
मेंढ़क की मां ने ये सुनते ही- उसकी मां के लिए यह बात एक चुनौती बन गई। वह अपने फेफड़ों में जबरदस्ती हवा भर कर फूलने का प्रयत्न करने लगी, मगर आखिर वह कितना फूलती।
एक समय आया जब उसका पेट किसी गुब्बारे की भांति फट गया।
शिक्षा/Moral:-घमंडी व्यक्ति का सिर सदैव नीचा होता है।                                                                                                                                                                                                                                                  5. नांद में कुत्ता  stories in hindi for class 1     


किसी गांव में एक कुत्ता रहता था। वह झगड़ालू स्वभाव का था। एक दिन की घटना है कि वह एक अस्तबल में घुस गया और चारे की एक नांद (चरनी) पर चढ़ कर बैठ गया।

उसे वह स्थान इतना पंसद आया कि वह दिन भर वहीं लेटा रहा। उधर, जब घोड़ों को भूख लगी तो वे चारा खाने के लिए नांद की ओर आए।

मगर वह कुत्ता किसी घोड़े को नांद के पास फटकने ही नहीं देता था।

वह हरेक घोड़े पर भौंकता हुआ दौड़ता। बेचारे घोड़े अपना भोजन नहीं कर पर रहे थे। चूंकि चारा कुत्ते का भी भोजन नहीं था|

इसलिए हुआ यह कि कुत्ता न तो खुद भोजन खा रहा था और न ही किसी घोड़े को खाने दे रहा था।

नतीजा यह हुआ कि स्वयं वह तथा घोड़े भूखे ही रह गए।

शिक्षा/Moral:-इस कहानी से ये सीख मिलती है कि किसी के हक पर जबरदस्ती कब्जा न करो।                                                                                                                                                                                        6.  शिकारी खुद शिकार बना   stories for kids in hindi 
                                                                                                                                                एक बार एक शिकारी किसी घने जंगल से होकर गुजर रहा था। उसके पास बंदूक भी थी।

जब वह जंगल के भीतर गया तो उसने पेड़ की एक डाल पर एक कबूतर बैठा देखा।

शिकारी ने- अपनी बंदूक से कबूतर का निशाना लिया और बंदूक का घोड़ा दबाने ही वाला था कि कहीं पीछे से एक सांप आया और उसे डस लिया।

सांप की वजह से- शिकारी अपने शिकार पर गोली नहीं चला सका और नीचे गिर पड़ा। सांप के विष का प्रभाव इतना तेज था कि उसका शरीर नीला पड़ने लगा। वह जमीन पर लोटने लगा। उसके मुंह से झाग निकलने लगे।

मरते समय शिकारी ने सोचा- ‘सांप ने मेरे साथ वही किया, जो मैं उस मासूम कबूतर के साथ करना चाहता था।’  

शिक्षा/Moral:-दूसरों का बुरा करने वाला स्वयं भी विपत्ति में फंसता है।                                                                                                                                                                                                                7. हिरन का बच्चा और बारहसिंगा stories in hindi 
                                                                                                                                                एक दिन एक हिरन का बच्चा तथा एक बारहसिंगा दोनों किसी जंगल में एक साथ चर रहे थे। अचानक शिकारी कुत्तों का एक झुंड उनसे कुछ दूरी पर गुजरा।

बारहसिंगा तुरंत झाडि़यों के पीछे छिप गया और हिरन के बच्चे से भी ऐसा ही करने लिए कहा। जब शिकारी कुत्ते चले गए तो....

हिरन के बच्चे ने बहुत भोलेपन से कहा- ”चाचा, आखिर तुम इनसे इतने भयभीत क्यों थे?

अगर तुम उनसे लड़ने भी लगो तो तुम्हारे पराजित हो जाने की संभावनाएं बहुत कम हैं। ईश्वर की दया से तुम्हारे सींग नुकील हैं। तुम्हारे लम्बे-लम्बे पैर हैं।

चाहो तो दौड़ में उन्हें पछाड़ सकते हो। तुम्हारा शरीर भी कई गुना बड़ा है। फिर भी तुम इतने भयभीत हो।“

बारहसिंगे ने हिरन के बच्चे की बात ध्यान से सुनी और बोला- ”देखो लड़के, जो तुम कह रहे हो, वह बिल्कुल सच है। मैं भी ऐसा ही सोचता हूं,

बारहसिंगा ने फिर कहा- मगर सत्य तो यह है कि हममें से जब भी कोई इन शिकारी कुत्तों के चुगंल में फंसा है, वह कभी जीवित नहीं बचा है।

यही वह भय है, जो पीढ़ी दर पीढ़ी चला आया है। पीढि़यों पुराना यह भय हमारी नसों में भर गया है, हमारी प्रतिक्रियाओं में प्रतिबिम्ब्ति होता है।

यही कारण है कि इन जंगली जानवरों के सामने आते ही हम होशियार हो जाते हैं और अपने बचाव का प्रयत्न करते हैं।"

शिक्षा/Moral:- कई बार हम शक्तिशाली होकर भी भयभीत रहते हैं, ऐसा आनुवंशिकता के कारण     होता है।                                                                                                                                                                                                                                                                                                             8.   एक गलत इच्छा
                                                                                                                                                                      एक बार एक मधुमक्खी ने एक बरतन में शहद इकटृा किया और ईश्वर को प्रसन्न करने के लिए उनके समक्ष प्रस्तुत किया।

ईश्वर उस भेंट से बहुत प्रसन्न हुए और मधुमक्खी से बोले कि वह जो चाहे इच्छा करे, उसे पूरा किया जाएगा।

मधुमक्खी यह सुनकर बहुत प्रसन्न हुई और बोली- ”हे सर्वशक्तिमान ईश्वर, यदि आप सचमुच मुझसे प्रसन्न हैं तो मुझे यह वरदान दें कि मैं जिसे भी डंक मारूं, वह दर्द से तड़प उठे।

ईश्वर यह सुनकर बहुत क्रोधित हुए- ”क्या इसके अतिरिक्त तुम्हारी अन्य कोई इच्छा नहीं है। ठीक है, मैंने वादा किया है कि तुम्हारी इच्छा पूरी करूंगा, परंतु एक शर्त है।

मधुमक्खी से ईश्वर ने फिर कहा- वह यह कि तुम जिसे डंक मारोगी उसे तो बहुत दर्द होगा, परंतु तुम भी तुरंत मर जाओगी।"

दूसरे ही क्षण ईश्वर वहां से चले गए।

शिक्षा/Moral:-जो दूसरों का बुरा चाहते हैं, उनका भी बुरा ही होता है।                                                                                                                                                                                                                                     9. कैसे आया जूताshort stories in hindi 
                                                                                                                                                एक राजा था। उसका एक बड़ा-सा राज्य था। एक दिन उसे देश घूमने का विचार आया और उसने देश भ्रमण की योजना बनाई और घूमने निकल पड़ा। जब वह यात्रा से लौट कर अपने महल आया।

उसने अपने मंत्रियों से पैरों में दर्द होने की शिकायत की। राजा का कहना था कि मार्ग में जो कंकड़-पत्थर थे वे मेरे पैरों में चुभ गए और इसके लिए कुछ इंतजाम करना चाहिए।

कुछ देर विचार करने के बाद उसने अपने सैनिकों व मंत्रियों को आदेश दिया कि देश की संपूर्ण सड़कें चमड़े से ढंक दी जाएं। राजा का ऐसा आदेश सुनकर सब सकते में आ गए।

लेकिन किसी ने भी मना करने की हिम्मत नहीं दिखाई। यह तो निश्चित ही था कि इस काम के लिए बहुत सारे रुपए की जरूरत थी। लेकिन फिर भी किसी ने कुछ नहीं कहा। कुछ देर बाद राजा के एक बुद्घिमान मंत्री ने एक युक्ति निकाली।

उसने राजा के पास जाकर डरते हुए कहा- महाराज! मैं आपको एक सुझाव देना चाहता हूं। अगर आप इतने रुपयों को अनावश्यक रूप से बर्बाद न करना चाहें तो मेरे पास एक अच्छी तरकीब है, जिससे आपका काम भी हो जाएगा और अनावश्यक रुपयों की बर्बादी भी बच जाएगी।

राजा आश्चर्यचकित था क्योंकि पहली बार किसी ने उसकी आज्ञा न मानने की बात कही थी।

उसने कहा- बताओ क्या सुझाव है?

मंत्री ने कहा- महाराज! पूरे देश की सड़कों को चमड़े से ढंकने के बजाय आप चमड़े के एक टुकड़े का उपयोग कर अपने पैरों को ही क्यों नहीं ढंक लेते।

राजा ने अचरज की दृष्टि से मंत्री को देखा और उसके सुझाव को मानते हुए अपने लिए जूता बनवाने का आदेश दे दिया।

शिक्षा/Moral:- यह कहानी हमें एक महत्वपूर्ण पाठ सिखाती है कि हमेशा ऐसे हल के बारे में सोचना चाहिए जो ज्यादा उपयोगी हो। जल्दबाजी में अप्रायोगिक हल सोचना बुद्धिमानी नहीं है। दूसरों के साथ बातचीत से भी अच्छे हल निकाले जा सकते हैं।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                            10.  गधा रहा गधा ही
                                                                                                                                                एक जंगल में एक शेर रहता था। गीदड़ उसका सेवक था। जोड़ी अच्छी थी। शेरों के समाज में तो उस शेर की कोई इज्जत नहीं थी, क्योंकि वह जवानी में सभी दूसरे शेरों से युद्ध हार चुका था, इसलिए वह अलग-थलग रहता था।

उसे गीदड़ जैसे चमचे की सख्त जरूरत थी जो चौबीस घंटे उसकी चमचागिरी करता रहे। गीदड़ को बस खाने का जुगाड़ चाहिए था। पेट भर जाने पर गीदड़ उस शेर की वीरता के ऐसे गुण गाता कि शेर का सीना फुलकर दुगना चौड़ा हो जाता।

एक दिन शेर ने एक बिगड़ैल जंगली सांड का शिकार करने का साहस कर डाला। सांड बहुत शक्तिशाली था। उसने लात मारकर शेर को दूर फेंक दिया, जब वह उठने को हुआ तो सांड ने फां-फां करते हुए शेर को सींगों से एक पेड़ के साथ रगड़ दिया।

किसी तरह शेर जान बचाकर भागा। शेर सींगों की मार से काफी जख्मी हो गया था। कई दिन बीते, परंतु शेर के जख्म ठीक होने का नाम नहीं ले रहे थे। ऐसी हालत में वह शिकार नहीं कर सकता था।

स्वयं शिकार करना गीदड़ के बस की बात नहीं थी। दोनों के भूखो मरने की नौबत आ गई। शेर को यह भी भय था कि खाने का जुगाड़ समाप्त होने के कारण गीदड़ उसका साथ न छोड़ जाए।

शेर ने एक दिन उसे सुझाया, 'देख, जख्मों के कारण मैं दौड़ नहीं सकता। शिकार कैसे करूं? तु जाकर किसी बेवकूफ-से जानवर को बातों में फंसाकर यहां ला। मैं उस झाड़ी में छिपा रहूंगा।

गीदड़ को भी शेर की बात जंच गई। वह किसी मूर्ख जानवर की तलाश में घूमता-घूमता एक कस्बे के बाहर नदी-घाट पर पहुंचा। वहां उसे एक मरियल-सा गधा घास पर मुंह मारता नजर आया। वह शक्ल से ही बेवकूफ लग रहा था।

गीदड़ गधे के निकट जाकर बोला 'पांय लागूं चाचा। बहुत कमजोर हो आए हो, क्या बात है?'

गधे ने अपना दुखड़ा रोया, 'क्या बताऊं भाई, जिस धोबी का मैं गधा हूं, वह बहुत क्रूर है।

दिनभर ढुलाई करवाता है और चारा कुछ देता नहीं।'

गीदड़ ने उसे न्‍यौता दिया-'चाचा, मेरे साथ जंगल चलो, वहां बहुत हरी-हरी घास है। खूब चरना तुम्हारी सेहत बन जाएगी।'

गधे ने कान फड़फड़ाए- 'राम-राम। मैं जंगल में कैसे रहूंगा? जंगली जानवर मुझे खा जाएंगे।'

'चाचा, तुम्हें शायद पता नहीं कि जंगल में एक बगुला भगतजी का सत्संग हुआ था। उसके बाद सारे जानवर शाकाहारी बन गए हैं।

गीदड़ बोला- अब कोई किसी को नहीं खाता और कान के पास मुंह ले जाकर दाना फेंका, 'चाचू, पास के कस्बे से बेचारी गधी भी अपने धोबी मालिक के अत्याचारों से तंग आकर जंगल में आ गई थी।

वहां हरी-हरी घास खाकर वह खूब लहरा गई है, तुम उसके साथ घर बसा लेना।'

गधे के दिमाग पर हरी-हरी घास और घर बसाने के सुनहरे सपने छाने लगे। वह गीदड़ के साथ जंगल की ओर चल दिया। जंगल में गीदड़ गधे को उसी झाड़ी के पास ले गया, जिसमें शेर छिपा बैठा था।

इससे पहले कि शेर पंजा मारता, गधे को झाड़ी में शेर की नीली बत्तियों की तरह चमकती आंखें नजर आ गईं। वह डरकर उछला, गधा भागा और भागता ही गया।

शेर बुझे स्वर में गीदड़ से बोला-'भाई, इस बार मैं तैयार नहीं था। तुम उसे दोबारा लाओ इस बार गलती नहीं होगी।'

गीदड़ दोबारा उस गधे की तलाश में कस्बे में पहुंचा।

उसे देखते ही बोला- 'चाचा, तुमने तो मेरी नाक कटवा दी। तुम अपनी दुल्हन से डरकर भाग गए?'

'उस झाड़ी में मुझे दो चमकती आंखें दिखाई दी थीं, जैसी शेर की होती हैं। मैं भागता नहीं तो क्या करता?' गधे ने शिकायत की।

गीदड़ नाटक करते हुए माथा पीटकर बोला- 'चाचा ओ चाचा! तुम भी पूरे मूर्ख हो। उस झाड़ी में तुम्हारी दुल्हन थी। जाने कितने जन्मों से वह तुम्हारी राह देख रही थी।

तुम्हें देखकर उसकी आंखें चमक उठीं तो तुमने उसे शेर समझ लिया?'

गधा बहुत लज्जित हुआ-क्योंकि गीदड़ की चालभरी बातें ही ऐसी थीं। गधा फिर उसके साथ चल पड़ा।

जंगल में झाड़ी के पास पहुंचते ही शेर ने नुकीले पंजों से उसे मार गिराया।इस प्रकार शेर व गीदड़ का भोजन जुटा।

शिक्षा/Moral:- दूसरों की चिकनी-चुपड़ी बातों में आने की मूर्खता कभी नहीं करनी चाहिए।                                                                                                                                                                    👨    summary  -                                                                                                           आशा  है की आपको यह कहानिया पसंद आए ,अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो इसे साझा जरूर करे |              

Post a Comment

0 Comments