. . . 5 Pariyon ki kahani | 5 परियों की कहानी

5 Pariyon ki kahani | 5 परियों की कहानी

5 Pariyon ki kahani.                                                                                                           1. नन्हीं परी का सपना -।                                         
Pariyon ki kahani
                                                                   चमेली एक बहुत सुंदर लड़की थी. उस के गालों के डिंपल बहुत सुंदर लगते थे. वह अपनी पढ़ाई के साथसाथ अन्य कामों को भी बहुत उत्साह से करती थी.
उस का हर समय मुसकराते रहना और सकारात्मक व्यवहार सभी को प्रभावित करता था. वह अन्य बच्चों की तरह थोड़ी शरारती भी थी. एक दिन स्कूल की एसेंबली में पिं्रसिपल ने बताया कि अपने सपने को साकार करने के लिए उस के बारे में सोचना कितना महत्त्वपूर्ण है.
प्रिंसिपल ने कहा- ‘अपनी संभावनाओं और क्षमता की जांच करते रहना चाहिए. अपनी रुचि के क्षेत्रों, विषयों को जानना चाहिए. अपने सपने को पूरा करने के लिए किसी की नकल नहीं करनी चाहिए.’’
फिर से प्रिंसिपल ने समझाते हुए कहा- ‘‘सिर्फ अंकों का अधिक आ जाना ही आप को सफल नहीं बनाता. अपने जीवन में अपने ज्ञान, सोच और सपने का भी ध्यान रखना जरूरी होता है. इस तरह से चल कर ही सही सफलता मिल सकती है’’ .
उन्होंने आगे बताया- ‘‘अपने सपने को साकार करने का प्रयास करो. इस से तुम्हारे साथसाथ दूसरों को भी फायदा हो सकता है.’’ बच्चों ने तालियां बजाईं.
चमेली ने हाथ उठा कर पूछा- ‘‘सर, मेरे तो कई सपने हैं. क्या मेरे सभी सपने पूरे हो सकते हैं?’’
प्रिंसिपल ने पूछा- ‘‘उन में से कोई एक सपना बताओ?’’
चमेली ने कुछ देर सोचने के बाद कहा- ‘‘मैं अपने आप को स्वर्ग की परी के रूप में देखना चाहती हूं.’’
प्रिंसिपल ने पूछा- ‘‘ क्या किसी और भी बच्चे का यह सपना है?’’ कई हाथ ऊपर उठे.
प्रिंसिपल ने मुसकराते हुए कहा- ‘‘आप लोगों को क्या लगता है कि कुछ महीनों में ही आप का यह सपना पूरा हो सकता है?’’ यह सुन कर वहां शांति छा गई. बच्चे एकदूसरे का मुंह देखने लगे. कुछ बच्चे चमेली की ओर ऐसे देखने लगे, जैसे उस ने यह बेकार सा प्रश्न क्यों पूछा.
चमेली कुछ देर शांत रहने के बाद बोली- ‘‘सर, मैं अपना यह सपना पूरा करने की कोशिश जरूर करूंगी.’’ ‘इस बच्ची के लिए ताली बजाओ,’’
प्रिंसिपल ने कहा- ‘‘हम सभी इस के द्वारा किए गए प्रयास को देखने का इंतजार करेंगे.’’ एसेंबली खत्म होने के बाद बच्चे अपनेअपने क्लासरूम में चले गए. कुछ चमेली की बातों का मजाक उड़ाने लगे.
चमेली ने चुनौती तो स्वीकर कर ली थी, लेकिन उसे पता नहीं था कि इसे पूरा करने के लिए अब क्या किया जाए. वह दिमाग में कई प्रश्नों को ले कर घर वापस लौटी. अन्य दिनों की तरह उस ने शाम को एक गिलास दूध पीया, लेकिन खेलने नहीं गई. वह मम्मी के बगल में जा कर बैठ गई.
मम्मी ने उसे प्यार करते हुए पूछा- ‘‘क्या बात है, मेरी नन्ही परी?’’ चमेली ने एसेंबली में हुई सारी बातें मम्मी को बताईं. ‘‘तुम बहादुर बच्ची हो, इसी लिए तुम ने यह चुनौती स्वीकार की’’ .
चमेली ने पूछा- ‘लेकिन मम्मी अब मैं अपने इस सपने को पूरा करने के लिए क्या करूं?’’
मम्मी ने कहा- ‘‘अपनी आंखें बंद करो और कल्पना करो कि तुम एक परी हो,’’
फिर चमेली ने- अपनी आंखें बंद कीं और अपने सपने के बारे में सोचने लगी.
‘अब इस कागज पर चित्र द्वारा या लिख कर अपने मन में चल रही बातों को लिखो,’’ कह कर मम्मी ने चमेली को एक पैंसिल और चार्ट पेपर दिए. कुछ ही मिनटों में चमेली ने एक सुंदर सा चित्र बना दिया. वह चित्र मम्मी को दिखाया.
मम्मी बोलीं- ‘वाह, बहुत सुंदर,’’. चमेली ने एक सुंदर सा बगीचा बनाया था, जिस में कई तरह के पेड़पौधे, फूल, तितलियां, ड्रैगनफ्लाइ, चिडि़यां, खरगोश, बतख, पंडुक बने हुए थे और इन के बीच में सितारों से सजी गाउन पहन कर चमेली खड़ी थी. उस के 2 सुंदर पंख भी थे.
तभी चमेली के पापा भी औफिस से आ गए. उन्होंने चमेली के स्कूल के बारे में सारी बातें ध्यान से सुनीं.
पापा ने कहा- ‘‘तुम बिलकुल सही रास्ते पर हो’’.
‘सब से पहले तुम्हारा एक सपना होना चाहिए. फिर उस से संबंधित चीजों को कागज पर बना लेना चाहिए. इस के बाद सपने को पूरा करने के लिए योजना बना कर उस पर अमल करना चाहिए|
पापा ने चित्र दिखाते हुए कहा- ‘‘हम इसे पूरा कर सकते हैं.’’
चमेली हैरानी से पापा की ओर देख रही थी.
पापा ने मुसकराते हुए पूछा- ‘‘तुम हैरान क्यों हो रही हो?’’
फिर से पापा ने कहा-  ‘हम पहले पौधे लगाएंगे. उन के बड़े होने पर चिडि़यां और तितलियां अपने आप आ जाएंगी’’.
चमेली ने पूछा- ‘‘लेकिन बतख, खरगोश, पंडुक और पंखों वाली परी का क्या होगा?’’
यह सुन कर चमेली के पापामम्मी जोरजोर से हंसने लगे.
पापा ने कहा- ‘चिंता मत करो,’’ ‘‘पहले जो है उससे तो शुरुआत करो.’’ चमेली ने पापामम्मी की सहायता से अपने घर का एक भाग इस ‘ड्रीम प्रोजैक्ट’ के लिए चुन लिया. मम्मी ने गुलाब, अड़हुल, चमेली, बैगनवेलिया, तुलसी आदि पौधे बगीचे के लिए मंगवा लिए.
पापा कुछ गेंदा के बीज ले आए. चमेली ने अपने नए प्रोजैक्ट पर काम शुरू कर दिया, जिसे उस ने गुप्त रखा था. पापामम्मी ने उसे यह सिखा दिया कि बगीचे का ध्यान कैसे रखना है.
स्कूल से आते ही वह अपने पौधों की ओर भागती. वह सूरज डूबने तक वहीं रहती, उन में
पानी देती और उन का ध्यान रखती. पौधे तेजी से बढ़ने लगे. कुछ ही महीनों में उस का बगीचा हराभरा हो गया. वह सुंदर, सुगंधित फूलों से भर गया. जल्दी ही वहां तितलियां, ड्रैगनफ्लाइ और चिडि़यां आने लगे.
वादे के मुताबिक पापा बतख, खरगोश और पंडुक खरीद कर ले आए. मम्मी ने एक उजली साड़ी को सिल कर गाउन बनाया. ‘परी’ दिखने के लिए उस में 2 छोटेछोटे पंख भी लगा दिए.
एक दिन चमेली ने प्रिंसिपल से कहा कि वह सभी को अपना सपना दिखाने के लिए तैयार है. दूसरे दिन चमेली के दोस्त और टीचर उस के घर पहुंच गए. वहां का दृश्य देख कर सभी हैरान थे.
वहां का पूरा बगीचा स्वर्ग की तरह दिख रहा था. रंगबिरंगी तितलियां फूलों के ऊपर उड़ रही थीं. मैना और दूसरे पक्षी अड़हुल और बैगनवेलिया के आसपास उड़ रहे थे. ड्रैगनफ्लाइ वहीं भनभना रहा था.
नजदीक के पीपल के पेड़ से तोते के गाने की आवाज आ रही थी. बतख इधर से उधर घूम रहा?था. खरगोश और पंडुक से बगीचे की सुंदरता और अधिक बढ़ गई थी. वहां गिलहरियां भी दौड़भाग रही थीं. ‘‘बच्चो, तुम इसी तरह अपने सपनों को पूरा कर सकते हो,’’ प्रिंसिपल ने चमेली की प्रशंसा करते हुए कहा.
‘चमेली के ‘परी’ बनने का सपना पूरा हो गया है. साथ ही साथ उस के सपने ने एक ऐसी दुनिया भी बना दी, जहां दूसरे जीवजंतु भी प्यार और भाईचारा से रह सकें. याद रखना, तुम्हारे सपने तुम्हारे साथसाथ दूसरों के जीवन में भी खुशियां ला सकते हैं,’’ प्रिंसिपल ने कहा. सभी ने चमेली के लिए तालियां बजाईं.
चमेली अपने मम्मीपापा के गले से लिपट गई. ‘सपने भी सच हो सकते हैं.’ चमेली खुशी से सोच रही थी.                                                                                                            2. स्नो व्हाइट और सात बौने -।                                                 
Pariyon ki kahani
                                                                        एक बार की बात है दूर प्रदेश मेँएक लड़की रहती थी उसका रंग हिमालय पर्वत की बर्फ की तरह सफ़ेद था और उसके बालोँ का रंग काजल के समान काला था और उसके ओठो का रंग गुलाब के समान गुलाबी था इसलिए उसका नाम स्नो वाइट था वह बहुत सुंदर लड़की थी उसकी सुंदरता विश्व प्रसिद्ध थी।
उसकी एक सौतेली माँ थी जो बहुत सुंदर थी वह स्नो वाइट से नफरत करती थी उसकी माँ जो कि एक सुंदर स्त्री के साथ साथ एक जादूगरनी भी थी। वह बहुत घमंडी थी उसके पास एक जादुई आईना था|
सौतेली माँ रोज उस से पूछा करती थी कि- ” बता आईने इस जगत मेँ सबसे सुंदर कौन है। ”
आईना कहता- ” रानी आप से सुंदर इस जगत कोई नहीँ है आप सबसे सुंदर रानी है। ”
आईने की बात सुनकर रानी बहुत खुश होती थी परंतु एक दिन जब
रानी ने उस आईने से पूछा -” बता आईने इस जगत मेँ सबसे सुंदर कौन है तो वह आईना बोला रानी आप बहुत सुंदर है किंतु सबसे सुंदर इस जगत स्नो वाइट है। रानी ने जब ऐसा सुना तो वह तिलमिला कर बोली आईने तू होश में तो है।
आईने ने फिर से अपनी बात को दोहराया- ” रानी आप बहुत सुन्दर है किन्तु इस जगत में सबसे सुन्दर तो स्नो वाइट ही है। ”
यह सुनकर सौतेली माँ ने गुस्से में अपने सेनिको को आदेश दिया -” सेनिको … स्नो वाइट को पकड़ लो और जंगल में ले जाकर मार डालो। ” सेनिको ने ऐसा ही किया वे उसे राजमहल से जंगल ले आये किन्तु उन्हें उसपर दया आई और उन्होंने उसे जंगल में जिन्दा छोड़ दिया और महल वापस चले गए। स्नो वाइट को जंगल में भटकते हुए एक छोटा और सुन्दर घर दिखा वह उस घर में जा पहुंचीं। यह घर सात बौनों का था बौनों ने जब राजकुमारी की पूरी कहानी सुनी तो वह बोले स्नो वाइट अगर तुम चाहो तो हमारे साथ रह सकती हो। राजकुमारी ने बौनों का धन्यवाद किया और उनके साथ रहने लगी। बौने घर से बहार जाते तो राज कुमारी घर का सारा काम करती थी।
एक दिन रानी ने फिर से आईने से पूछा -” बताओ आईने सब से सुन्दर कौन है ?”
आइना बोला- रानी आप बहुत सुन्दर है मगर आपसे भी सुन्दर स्नो वाइट है। ”
रानी ने गुस्से में कहा- ” किन्तु वह तो मरचुकी है। ”
आइना बोला- ” नही वह जंगल में सात बौनों के साथ रहरही है। ” रानी ने मन ही मन सोचा इस बार में खुद उसे मारूंगी। और वह जंगल में एक बूढी सेब बचने वाली ओरत का भेस बदल कर बौने के घर पहुंची और स्नो वाइट से सेब खरीद ने के लिए कहने लगी।
राजकुमारी के माना करने पर बोली-” बस एक बार इसको चख तो लो ये बहुत मीठे है। ” और स्नो वाइट का देते हुए बोली। जैसे ही स्नो वाइट ने उसे खाया वह बेहोश होकर गिर गयी। रानी खुश होकर हसी और वापस महल आ गयी। िदहर जब बोन घर वापस आये तो उन्होंने उसे मृत समझ कर एक ताबूत में रख दिया और दुखी होने लगे तभी वहां एक राजकुमार आया उसने जब स्नो वाइट को देखा तो वह उसके रूप पर मोहित हो गया और उसने उसके कोमल ओठो को चुम लिया तभी वह सेब का टुकड़ा जो राजकुमारी के मुह में था वह बहार निकल गया। और राज कुमारी पहले की तरह स्वास्थ हो गयी।
रानी ने महल पहुंच कर फिर से आईने से पूछा तो आईने ने फिर से स्नो वाइट को सबसे सुन्दर बताया।
इस पर रानी ने गुस्से में आईने को फेकते हुए बोली -” ये नही हो सकता मेने उसे स्वयं मृत्यु दी है। यह आइना झूट बोलता है और उसने आईने का तोड़ दिया।
स्नो वाइट और राजकुमार ने आपस में विवाह कर लिया और वह उस राजकुमार के साथ महल को चली गयी।                                                                                                                                                                                      3. सिंड्रेला -।                                                                                                                                                  एक समय की बात है एक प्यारी सी लड़की थी जिसका नाम था सिंड्रेला वह जब छोटी थी तब उसकी माँ गुजर गयी और उसके पिता ने दूसरी शादी कर ली। वह अब अपनी एक सौतेली माँ व दो सौतेली बहिनो के साथ रहती थी। उसकी सौतेली माँ उससे घर का सारा काम कराती थी उस पर अगर सिंड्रेला कुछ गलत करदे तो उसे खाना खाने को भी नही देती थी।
एक दिन उस राज्य के राज कुमार ने सभी नगर वासियो को नाच गाने के उत्सव पर आमंत्रित किया। यह सुन सिंड्रेला बहुत खुश हुई वह भी उस उत्सव में जाना चाहती थी। किन्तु जब उसकी सौतेली माँ को पता चला तो उसने सिंड्रेला को बहुत डाटा व मारा और घर का बहुत सा काम उससे करने को दिया जिससे वह उस उत्सव में न जा सके और वह अपनी दोना पुत्रियों के साथ उस उत्सव में चली गयी। सिंड्रेला बहुत देखि थी पर वह कर भी क्या सकती थी। उसने अपनी मरी हुई माँ को याद किया और रोने लगी। तभी एक तेज रौशनी के बीच एक सुन्दर सी परी आई
परी ने सिंड्रेला से कहा – "उठो बेटी में तुम्हारी माँ हू। में तुम्हे रोते हुए नही देख सकती। में तुम्हे उस उत्सव में लेजाने के लिए आई हू।”
यह सुन कर सिंड्रेला ने परी से कहा- "भला में वह कैसे जासकती हू। मेरे पास तो पहनने के लिए कपडे भी नही है।” तो परी ने अपनी जादुई छड़ी को घुमाया और सिंड्रेला को एक राजकुमारी के सामान सुन्दर वस्त्र पहना दिए जिसमे वह एक सुन्दर राजकुमारी ही लग रही थी और फिर पारी ने सिंड्रेला के जाने के लिए एक शाही बाघी को भी बुलाया|
सिंड्रेला को उसमे बैठा कर परी बोली - "सिंड्रेला एक बात याद रखना तुम्हे हर हाल में रात के बारह बजे से पहले घर लोटना होगा क्योकि रात के बारह बजते ही मेरा ये जादू ख़त्म हो जायेगा। ”
सिंड्रेला ने परी को - “हाँ कहा।” और उत्सव के लिए चल दी।
सिंड्रेला उस उतसव में सबसे सुन्दर और एक राजकुमारी लग रही थी राजकुमार केवल उसके साथ ही नाच रहा था। यह देख के उसकी सौतेली माँ व बहिनो को उससे जलन हो रही थी किन्तु वह उसे पहचान नही पाये थे वे उससे एक राजकुमारी ही समझ रहे थे।
इधर राजकुमार के साथ नाच करते करते उसे याद ही नही रहा और बारह बजगए। जब उसने घडी की आवाज सुनी तो वह वहां से भगति हुई निकल गयी किन्तु इस जल्द बाजी में उसके पाँव का एक जूता राजकुमार के पास ही रह गया। राजकुमार ने अपने सेनिको को आदेश दिया की नगर के सभी घरो की तलाशी ले और यह जूता जिसभी लड़की का होगा में उसी से शादी करूँगा।
ऐश आदेश मिलते ही सेनिको ने सभी घरो की तलाशी ली और फिर वे सिंड्रेला के घर भी जा पहुंचे। सिंड्रेला की बहिनो ने पूरी कोशिश की पर वह जूता उनके फिट नही आया और भिर सेनिको ने सिंड्रेला से भी जूता नापने को कहा और सब खुश हो गए वह जूता जो किसे के पेरो में नही आता था|
वह सिंड्रेला के पेरो में एकदम ठीक आगया था और फिर उसकी शादी राजकुमार से होगयी उसकी सौतेली माँ और बहिने अब उससे बहुत प्यार करती थी। सिंड्रेला अपने पति के साथ शुखी शुखी रहने लगी।                                                                                                                           4. गुलाबी परी की कहानी -।                                                 
Pariyon ki kahani
                                                                            ख़ुशी को रात को सोने से पहले कहानी सुनने का बहुत शौक है। वह कक्षा चार में पढ़ती है।
वह अपनी माँ से कहती है- “माँ" आज रात मुझे कहानी सुनाओगी न!”
माँ कहती है- “हाँ बेटा! अभी कुछ देर रुको। मैं रसोई का काम ख़त्म करके जल्दी ही आती हूँ।”
अब ख़ुशी ने- जल्दी से नाईट सूट पहना और अपने पलंग पर आकर लेट गई।
थोड़ी देर में माँ का काम ख़त्म हुआ तो वो भी उसके पास आ कर लेट गईं|
माँ बोलीं- “हाँ! अब बताओ कौन सी कहानी सुनाऊँ आज?”
ख़ुशी बोली-“माँ, आज वो परियों वाली कहानी सुनाओ न,” ख़ुशी को परियों की कहानी सुनना बहुत पसंद है। वह हर तीसरे दिन कोई न कोई परियों वाली ही कहानी सुनना चाहती है।
माँ बोलीं-“अच्छा चलो, आज मैं तुम्हें गुलाबी परी की कहानी सुनाती हूँ,” माँ ने कहानी शुरू की –
“बहुत समय पहले की बात है, परीलोक में बहुत सारी परियाँ रहती थीं। उनमें से गुलाबी परी सबसे प्यारी थी। वह रानी परी की सबसे चहेती परी भी थी। गुलाबी परी यदि कोई इच्छा करती तो वह उसे ज़रूर पूरा करती।
एक दिन खेलते–खेलते गुलाबी परी के मन में आया कि क्यों न पृथ्वीलोक पर सैर के लिए जाया जाए। उसने पृथ्वीलोक और वहां के लोगों के बारे में बहुत सुना हुआ था। वे लोग कैसे रहते हैं, वह जानना चाहती थी। उसने अपनी यह इच्छा रानी परी के सामने रखी। पहले तो रानी परी ने ना-नुकुर किया फिर मान गई। आखिर वह गुलाबी परी की इच्छा को कैसे टाल सकती थी।
रानी परी ने कहा, “पर मेरी एक शर्त है। पृथ्वीलोक पर तुम सिर्फ रात में ही जा सकती हो। और सूरज की पहली किरण निकलने से पहले ही तुम्हें वापस आना होगा। सूरज की किरणें तुम्हारे ऊपर नहीं पड़नी चाहिए। नहीं तो तुम्हारे पंख पिघल जाएंगे और तुम वापस नहीं आ पाओगी। तुम्हें हमेशा के लिए मनुष्यों के साथ रहना पड़ेगा।”
गुलाबी परी ने जल्दी से कहा- “ठीक है!”वह तो पृथ्वीलोक पर जाने के नाम से ही उत्साहित थी।
रानी परी ने कहा- “लेकिन तुम अकेले नहीं जाओगी। तुम्हारे साथ तुम्हारी तीन और परी बहनें भी तुम्हारी सुरक्षा के लिए जाएंगी। सब्ज़ परी, नील परी और लाल परी,”।
गुलाबी परी और भी खुश हो गई। “ये सब तो मेरी सहेलियाँ हैं! अब तो और भी मज़ा आएगा। हम सब वहाँ जा कर मज़े करेंगे, किसी बाग़ में खेलेंगे और नृत्य करेंगे।” बाक़ी परियाँ भी बहुत खुश हो गईं, आखिर उनको भी पृथ्वीलोक पर जाने का मौका मिल रहा था। वे सब रात का बेसब्री से इंतज़ार करने लगीं।
जैसे ही पृथ्वीलोक पर अँधेरा छाया, चारों परियाँ तैयार हो गईं। रानी परी ने एक बार फिर से अपनी चेतावनी दोहराई, “याद रहे, सूरज की पहली किरण निकलने से पहले ही परीलोक वापस आना होगा।” फिर रानी माँ ने सभी परियों को आँखें बंद करने को कहा।
थोड़ी देर बाद जब चारों परियों ने आँखें खोलीं तो वे सब एक हरे भरे बाग़ में थीं। चारों तरफ सुन्दर-सुन्दर फूल खिले हुए थे। तितलियाँ फूलों पर मंडरा रहीं थीं। हवा में ठंडक थी। उन परियों को ये हरियाली इतनी अच्छी लगी कि उन्होंने नाचना शुरू कर दिया। धीमा-धीमा संगीत न जाने कहाँ से आ रहा था।”
कहानी खत्म हुई और ख़ुशी को अपनी माँ कि गोद में ही कहानी सुनते - सुनते नीद आ गई| ।                                                                                                                      5. नन्ही परी और छोटी रानी -।                                                                                                                           विक्रमगढ़ नामक एक राज्य था जिसमे एक राजा राज्य करता था। विक्रमगढ़ के राजा की दो रानियाँ थीं। बड़ी रानी कम सुन्दर थी और छोटी रानी अत्यधिक सुन्दर थी जिसके के कारण राजा छोटी रानी को अधिक प्रेम करते थे। एक दिन छोटी रानी के कहने पर राजा बड़ी रानी पर बहुत नाराज़ हुआ। तो बड़ी रानी रोती हुई महल से जंगल की और चली गयी।
एक नदी के किनारे, अनार के पेड़ के नीचे बैठ कर वो ज़ोर ज़ोर से रो रही थी कि तभी एक नन्ही सी परी प्रकट हुई।
नन्ही सी परी ने रानी से उसके रोने का कारण पूछा- बड़ी रानी ने सब कुछ सच सच बता दिया।
तब नन्ही सी परी बोली- ” ठीक है, मैं जैसा कहती हूँ, वैसा ही करो, न ज़्यादा न कम। पहले इस नदी में तीन डुबकी लगाओ और फिर इस अनार के पेड़ से एक अनार तोड़ो।” और ऐसा कह कर परी गायब हो गयी।
बड़ी रानी ने वैसा ही किया जैसा कि परी ने कहा था। जब रानी ने पहली डुबकी लगाई तो उसके शरीर का रंग और साफ़ हो गया, सौंदर्य और निखर गया। दूसरी डुबकी लगाने पर उसके शरीर में सुंदर कपड़े और ज़ेवर आ गये। तीसरी डुबकी लगाने पर रानी के सुंदर लंबे काले घने बाल आ गये। इस तरह रानी बहुत सुंदर लगने लगी।
नदी से बाहर निकल कर रानी ने परी के कहे अनुसार अनार के पेड़ से एक अनार तोड़ा। उस अनार के सारे बीज सैनिक बन कर फूट आये और रानी के लिये एक तैयार पालकी में उसे बिठा कर राज्य में वापस ले गये।
राजमहल के बाहर शोर सुन कर राजा ने अपने मंत्री से पता करने को कहा कि क्या बात है। मंत्री ने आकर ख़बर दी कि बड़ी रानी का जुलूस निकला है।
राजा ने तब बड़ी रानी को महल में बुला कर सारी कहानी सुनी और पछताते हुये इस बार छोटी रानी को राज्य से बाहर निकल जाने का आदेश दिया।
छोटी रानी ने:- पहले ही परी की सारी कहानी सुन ली थी। वो भी राज्य से बाहर जा कर अनार के पेड़ के नीचे, नदी किनारे जा कर रोने लगी। पिछली बार जैसे ही इस बार भी परी प्रकट हुई। परी ने छोटी रानी से भी उसके रोने का कारण पूछा। छोटी रानी ने झूठ मूठ बड़ी रानी के ऊपर दोष लगाया और कहा कि उसे बड़ी रानी महल से बाहर निकाल दिया है।
तब नन्ही परी बोली- ” ठीक है, मैं जैसा कहती हूँ, वैसा ही करो, न ज़्यादा न कम। पहले इस नदी में तीन डुबकी लगाओ और फिर इस अनार के पेड़ से एक अनार तोड़ो।” और ऐसा कह कर परी गायब हो गयी।
छोटी रानी ने ख़ुश हो कर नदी में डुबकी लगाई। जब रानी ने पहली डुबकी लगाई तो उसके शरीर का रंग और साफ़ हो गया, सौंदर्य और निखर आया। दूसरी डुबकी लगाने पर उसके शरीर पर सुंदर कपड़े और ज़ेवर आ गये। तीसरी डुबकी लगाने पर रानी के सुंदर लंबे काले घने बाल आ गये। इस तरह रानी बहुत सुंदर लगने लगी। जब छोटी रानी ने ये देखा तो उसे लगा कि अगर वो तीन डुबकी लगाने पर इतनी सुंदर बन सकती है, तो और डुबकिय़ाँ लगाने पर जाने कितनी सुंदर लगेगी।
इसलिये, उसने एक के बाद एक कई डुबकियाँ लगा लीं। मगर उसका ऐसा करने से रानी के शरीर के सारे कपड़े फटे पुराने हो गये, ज़ेवर गायब हो गये, सर से बाल चले गये और सारे शरीर पर दाग़ और मस्से दिखने लगी।
छोटी रानी ऐसा देख कर दहाड़े मार मार कर रोने लगी। फिर वो नदी से बाहर आई और अनार के पेड़ से एक अनार तोड़ा। उस अनार में से एक बड़ा सा साँप निकला और रानी को खा गया।
शिक्षा/Moral:- इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि दूसरों का कभी बुरा नहीं चाहना चाहिये, और लोभ नहीं करना चाहिये।                                                                                                                                                                                                                                                             सबसेे अच्छी मोरल कहानियां पढ़नेेे के लिए यहां क्लिक करें - प्रेरणादायक कहानियां 

Post a Comment

0 Comments